चैन की नींद: गहरी नींद के लिए सोने से पहले करें ये 6 स्ट्रेचिंग एक्सरसाइज, अल्जाइमर्स, डायबिटिज और हार्ट डिजीज का खतरा घटने

0
6 views
चैन की नींद: गहरी नींद के लिए सोने से पहले करें ये 6 स्ट्रेचिंग एक्सरसाइज, अल्जाइमर्स, डायबिटिज और हार्ट डिजीज का खतरा घटने


विज्ञापन से परेशान है? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

एक घंटा पहले

  • कॉपी लिस्ट
  • एक्सपर्ट्स का मानना ​​है कि सोने से पहले तेज और भारी एक्सरसाइज की तुलना में स्ट्रेचिंग और ध्यान लगाने जैसी एक्टिवा ज्यादा फायदेमंद है।

विज्ञान कहता है कि जिस तरह से पोषक तत्व शरीर के लिए जरूरी हैं, उतनी ही जरूरी है, अच्छी नींद। कई शोध में साबित हुआ है कि एक्सरसाइज करने से अच्छी नींद जल्दी आती है। अच्छी नींद यानी नींद बार-बार नहीं टूटती। एक्सपर्ट्स का मानना ​​है कि सोने से पहले तेज और भारी एक्सरसाइज करने की तुलना में स्ट्रेचिंग और ध्यान लगाने जैसी एक्ट राशिज ज्यादा फायदेमंद हैं।

तेज और भारी एक्सरसाइज करने से हार्ट बीट और बॉडी का टेम्प्रेचर बढ़ जाता है, जिससे नींद आने में दिक्कत होती है। वहीं, स्ट्रेचिंग और योग जैसी एक्टिविटीज से शरीर को शांत करने वाले हार्मोन्स का प्रवाह बढ़ता है, मनोवैज्ञानिक तनाव होता है जिससे नर्वस सिस्टम शांत होता है। नींद वो क्रिया है, जो शरीर और मन दोनों को रिलैक्स करता है। यह कई बीमारियों से हमें बचाती है। वैज्ञानिकों के मुताबिक, सोने से पहले ये 6 स्ट्रेचिंग हमारी नींद में सुधार कर सकते हैं।

काऊ पोज को कैट पोज भी कहते हैं।

काऊ पोज को कैट पोज भी कहते हैं।

काऊ पोज: इस पोज को 2 से 3 बार रिपीट किया जाता है
फर्श पर घुटनों और हाथों के बल टेबल जैसी पोजीशन बना लें। कमर को ढीला छोड़ना। अब सांस लें। सिर सामने की ओर रखें। ऐसे ही सांस छोड़ते समय ठोढ़ी को छाती की तरह लाएं और रीढ़ को ऊपर की ओर कर्ककार अवस्था में ले जाएं। इस तरह दोनो पोज को दोहराता है। सांस लेते वक्त बिल्ली की और सांस छोड़ते जब गाय की अवस्था बनीगी। इस तरह तीन से पांच बार करें। यह पीठ और गर्दन के तनाव को कम करता है।

बाल पंडित

बाल्ड पोज

चाइल्ड पोज: यह गहरी सांस के साथ 2 मिनट तक कर सकते हैं
गानों के बल बैठ जाओ। अब आगे की ओर झुकेंगे। छाती को जांघों के बीच ले जाना। पैर के केप आपस में जुड़े हुए हैं। घुटनों के बीच इतनी दूरी हो जिससे आप आसानी से गहरी सांस ले सकें। अब अपने हाथों को सामने की ओर जमीन से सटाते हुए इतना फैलाया कि अपका माथा जमीन पर छू जाए। हल्की मसाज के लिए टेनिस बॉल या मसाज बॉल को माथे के नीचे हल्के-हल्के उसे एक तरफ से दूसरी तरह घुमाते हुए।

थ्रेड द निडिल

थ्रेड द निडिल

थ्रेड द निडिल: इस अवस्था में पांच बार सांस लें
शरीर को टेबल की पोजीशन में ले आते हैं। अब सांस लेते हुए दाएं हाथ को आसमान की तरफ ले जाएं। पंजाबी शरीर से बाहर की तरफ हो। अब सांस छोड़ते हुए दाएं हाथ से छाती के नीचे तक इतना ले जाएं कि कंधा जमीन को छूने लगे। इस दौरान पंजाबी आसमान की तरफ खुला रखें। दाएं गाल जमीन पर छू होना। सांस लेने के दौरान दाएं हाथ को आसमान की तरफ ले जाएं। सांस छोड़ते वक्त इसी अवस्था में लौटें। अब दूसरे हाथ से भी करें।

लो लंज

लो लंज

लो लंज: इस पोजिशन में 5 से 10 बार गहरी सांस लें
इस पोजिशन पर बैठ जाओ। दाएं पैर को आगे कर लें। बाएं घुटने को पीछे की तरफ ले जाना। दोनों हाथों को घुटनों पर रख लें। यह एक्सरसाइज एक विशेष प्रकार की मोटर सोआस को खोलती है। ये संसाधनिसीन की हड्दी को पैरों से जोड़ती है। ये सिद्धियाँ चलने और दौड़ने में मदद करती हैं। हमारे शक्तिशाली भागों और डायफ्रॉम को सहायता प्रदान करती हैं। हमारी सांसों की गतिविधि को सीधा प्रभावित करती है।

गर्दन की मसाज

गर्दन की मसाज

गर्दन की मसाज: इस अवस्था में 5 बार सांस लें

पीठ के बल लेट होना। गर्दन के नीचे योगा ब्लॉक या मोटी किताबें रखें। अब गर्दन कोइं ओर घुमाते हुए गर्दन की ऊपर की ओर कान के पीछे मसाज बॉल या टेनिस बॉल रखें। इस अवस्था में पाँच बार सांस लें। अब हल्के-हल्के पांच बार हां की अवस्था में गर्दन हिलाएं। ऐसे ही ना में तीन से चार बार गर्दन हिलाते हैं। इसी तरह दूसरा पक्ष करें। यह तकनीक गर्दन के तनाव को कम करती है।

दीवार के सहारे स्ट्रेचिंग करते समय एल का आकार बनाएँ

दीवार के सहारे स्ट्रेचिंग करते समय एल का आकार बनाएँ

दीवार के सहारे स्ट्रेचिंग: इस दौरान 5 से 10 बार धीरे-धीरे सांस लें

दीवार से पैर को सटाते हुए लेट जाओ। एल का आकार बना लें।) सपोर्ट के लिए आप किसी कंबल को मोड़कर कमर के नीचे रख सकते हैं। अब दाएं हाथ की पहली उंगली से दाईं नासिका को बंद कर लें। पांच से 10 गुना धीरे-धीरे सांस लें। यह क्रिया ब्लड प्रेशर, शरीर के तापमान और एंग्जाइटी को कम करेगी। अब हाथ को हटा लें और धीरे-धीरे नाक के दोनों छेदों से गहरी सांस लें।

ये भी पढ़ें

नींद नहीं आती है तो ये 5 प्रेशर पॉइंट को दबाएं यह अनिद्रा की परेशानी दूर करके और दिमाग को सुकून पहुंचाएंगे

वर्कआउट के लिए कौन सा सही है, एक्सपर्ट का जवाब – फैट लॉस और रात को अच्छी नींद चाहिए तो सुबह का समय बेहतर होगा

जापान की मून ब्रीदिंग तकनीक से समझेत और नींद का कनेक्शन, दूर करें

रात में लंबी ड्राइव कर रहे हैं तो ऐसे दूर रख सकते हैं नींद को, यात्रा से पहले लें 30 मिनट की नैप





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here